द स्टेट न्यूज़ हिंदी

सच दिखाते हैं हम……..

जम्मू और कश्मीर

Kathua Terrorist Attack 2024: ‘कश्मीरी मुसलमान डरे हुए हैं’, कठुआ में आतंकी हमले पर बोले फारूक अब्दुल्ला

Kathua Terrorist Attack: नेशनल कॉन्फ्रेंस के प्रमुख फारूक अब्दुल्ला ने कहा कि जब मैंने बातचीत की वकालत की तो मुझे ही खलिस्तानी, पाकिस्तानी एजेंट कहा जा रहा है. मैंने हर वक़्त दोस्ती की बात की है.

Kathua Terrorist Attack: ‘कश्मीरी मुसलमान डरे हुए हैं’, कठुआ में आतंकी हमले पर बोले फारूक अब्दुल्ला

Kathua Terrorist Attack

Kathua Terrorist Attack: जम्मू-कश्मीर के कठुआ जिले में आतंकियों ने एक बार फिर कायराना आतंकी वारदात को अंजाम दिया है. घात लगाकर सेना की गाड़ी पर किए गए आतंकी हमले में 5 जवान शहीद हो गए. इस हमले में 5 अन्य जवान जख्मी भी हुए हैं. अब, इस आतंकी हमले की कड़ी आलोचना की जा रही है. इस घटना पर नेशनल कॉन्फ्रेंस के प्रमुख और जम्मू-कश्मीर के पूर्व मुख्यमंत्री फारूक अब्दुल्ला ने कहा कि यह बड़ा मसला है. क्या इसे पाकिस्तान बनाना है? यह हमारी बर्बादी है.

कठुआ में हुए कायराना हमले पर फारुक अब्दुल्ला ने कहा कि लोकसभा चुनावों में हमारे प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने नफ़रत की राजनीति की, शायद अब वह बदलेंगे. उन्होंने कहा कि नफरत की बुनियाद पर देश नहीं बनाया जा सकता. आज कश्मीरी मुसलमान डरे हुए हैं. मैंने अपने जीवन में ऐसा कभी नहीं देखा. फारुख अब्दुल्ला ने कहा कि ये हमले इसलिए हो रहे है कि पाकिस्तान कहता है कि कश्मीर का फ़ैसला नहीं हुआ है. लेकिन इसका फ़ैसला हमारी बर्बादी के साथ होगा.

Kathua Terrorist Attack

लड़ाई से नहीं निकलेगा कश्मीर मुद्दे का हल-फारूक अब्दुल्ला

नेशनल कॉन्फ्रेंस के प्रमुख और जम्मू-कश्मीर के पूर्व मुख्यमंत्री फारूक अब्दुल्ला ने कहा कि जब मैंने बातचीत की वकालत की तो आज मुझे ही खलिस्तानी, पाकिस्तानी और अमेरिकन एजेंट कहा जा रहा है. मैंने हर वक़्त दोस्ती की बात की है और आज भी यही कहता हूं लड़ाई से कश्मीर मुद्दे का हल नहीं निकलेगा.

Kathua Terrorist Attack

जानिए क्या है मामला?

दरअसल, सेना के 10 जवान सोमवार (8 जुलाई) को गश्त पर निकले थे. जब काफिला दूरदराज के बदनोटा गांव में एक नाले पर बने पुल पर पहुंचा, तब आतंकवादियों के दो दिशाओं से हमला किया. पहले उन्होंने काफिले पर ग्रेनेड फेंका. धमाके के बाद तुरंत आतंकियों ने दोनों तरफ से गोलीबारी शुरू कर दी. करीब 12-13 मिनट तक जबर्दस्त फायरिंग की. धमाके और गोलीबारी से इलाका धुआं-धुआं हो गया.

जब सुरक्षाबलों ने जवाबी कार्रवाई शुरू की तो आतंकवादी जंगल में भाग गए. इस आतंकी हमलें में सेना के 5 जवान शहीद हो गए और 5 जवानों को गंभीर हालत में अस्पताल में भर्ती कराया गया है.

Kathua Terrorist Attack

Kathua Terrorist Attack: ‘Kashmiri Muslims are scared’, Farooq Abdullah said on the terrorist attack in Kathua
Kathua Terrorist Attack: National Conference chief Farooq Abdullah said that when I advocated for dialogue, I am being called a Khalistani, Pakistani agent. I have always talked about friendship.

Kathua Terrorist Attack: Terrorists have once again carried out a cowardly terrorist attack in Kathua district of Jammu and Kashmir. 5 soldiers were martyred in the terrorist attack on the army vehicle by laying an ambush. 5 other soldiers were also injured in this attack. Now, this terrorist attack is being strongly criticized. On this incident, National Conference chief and former Chief Minister of Jammu and Kashmir Farooq Abdullah said that this is a big issue. Does this have to be made Pakistan? This is our destruction.

On the cowardly attack in Kathua, Farooq Abdullah said that in the Lok Sabha elections, our Prime Minister Narendra Modi did the politics of hatred, maybe now he will change. He said that the country cannot be built on the foundation of hatred. Today Kashmiri Muslims are scared. I have never seen anything like this in my life. Farooq Abdullah said that these attacks are happening because Pakistan says that the decision on Kashmir has not been taken. But its decision will be with our destruction.

Fight will not solve the Kashmir issue – Farooq Abdullah

Kathua Terrorist Attack

National Conference chief and former Jammu and Kashmir Chief Minister Farooq Abdullah said that when I advocated for talks, today I am being called a Khalistani, Pakistani and American agent. I have always talked about friendship and even today I say that fighting will not solve the Kashmir issue.

Know what is the matter?

Actually, 10 army personnel had gone on patrol on Monday (July 8). When the convoy reached a bridge over a drain in the remote Badnota village, terrorists attacked from two directions. First they threw grenades at the convoy. Immediately after the blast, terrorists started firing from both sides. Firing continued for about 12-13 minutes. The area was filled with smoke due to the blast and firing. When the security forces started retaliatory action, the terrorists fled into the forest. 5 army soldiers were martyred in this terrorist attack and 5 soldiers have been admitted to the hospital in critical condition.

द स्टेट न्यूज़ हिंदी

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *