द स्टेट न्यूज़ हिंदी

सच दिखाते हैं हम……..

अंतरराष्ट्रीय

NATO के लिए काम नहीं कर रहा कनाडा, अमेरिका में लग सकती है फटकार, ट्रूडो मुंह छिपाये घूम रहे!

Us Nato Meeting : कनाडा पर आरोप है कि वह सैन्य खर्च के लक्ष्य को पूरा नहीं कर रहा है. उसने नए उपकरणों में पर्याप्त निवेश भी नहीं किया है

NATO के लिए काम नहीं कर रहा कनाडा, अमेरिका में लग सकती है फटकार, ट्रूडो मुंह छिपाये घूम रहे!

NATO

Us Nato Meeting : अमेरिका में हो रही नाटो की मीटिंग में कनाडा को डांट पड़ सकती है. कनाडा के पीएम जस्टिन ट्रूडो पर आरोप है कि वह नाटो को कमजोर रहे हैं. इसकी वजह से ट्रूडो नाटो सदस्य देशों के निशाने पर हैं. इसके लिए कनाडा के खिलाफ पत्र लिखकर नाराजगी भी जाहिर की गई है. दरअसल, कनाडा पर आरोप है कि वह सैन्य खर्च के लक्ष्य को पूरा नहीं कर रहा है. उसने नए उपकरणों में पर्याप्त निवेश भी नहीं किया है. अब नाटो की मीटिंग अमेरिका में हो रही है, जाहिर है कि इस मुद्दे को वहां काफी उछाला जा सकता है. बैठक में नाटो सदस्य कनाडा पर अधिक धन देने का दबाव भी डाल सकते हैं.

23 देश कर रहे लक्ष्य पूरा, कनाडा फिसड्डी
न्यूज पोर्टल पोलिटिको की रिपोर्ट के अनुसार, अमेरिकी विदेश विभाग के पूर्व हथियार नियंत्रण अधिकारी मैक्स बर्गमैन का कहना है कि हर कोई अधिक खर्च कर रहा है, लेकिन कनाडा कोशिश भी नहीं कर रहा है.रिपोर्ट में बताया गया कि 23 अमेरिकी सीनेटरों ने प्रधानमंत्री जस्टिन ट्रूडो को पत्र में निराशा व्यक्त की. इसमें कनाडा से अपने जिम्मेदारी निभाने के लिए अपील की गई है. नाटो देशों ने 2014 में अपने देश की जीडीपी का 2% रक्षा पर खर्च करने की प्रतिबद्धता जताई थी.

32 देशों में से 23 इस लक्ष्य को हासिल करने वाले हैं, लेकिन कनाडा अभी पीछे है. कनाडा के इस रुख पर नाटो राजनयिक और अधिकारी अपनी चिंताएं व्यक्त कर चुके हैं. कुछ का तो यही मानना है कि कनाडा नाटो को कमजोर कर रहा है. अमेरिकी कांग्रेस अधिकारी ने कहा कि वे कनाडा पर दबाव बनाना जारी रखेंगे, क्योंकि लक्ष्य को हासिल न करने पर कोई जुर्माना नहीं है.

NATO

2 प्रतिशत की सीमा न्यूनतम है
अब अमेरिका में हो रहे नाटो सम्मेलन में यूक्रेन युद्ध से लेकर कई बड़े मुद्दे उठा जाएंगे. इसमें नाटो के रक्षा बजट का भी मुद्दा उठेगा.बताया जाएगा कि रक्षा बजट के लिए के लिए 2 प्रतिशत सीमा नहीं, बल्कि यह न्यूनतम लिमिट है. अमेरिका, पोलैंड, नॉर्वे और एस्टोनिया जैसे देश पहले ही 2% की सीमा को पार कर चुके हैं.

Canada is not working for NATO, it may get reprimanded in America, Trudeau is roaming around hiding his face!

Us Nato Meeting: Canada is accused of not fulfilling the target of military expenditure. It has not invested enough in new equipment either.

Us Nato Meeting: Canada may get reprimanded in the NATO meeting being held in America. Canadian PM Justin Trudeau is accused of weakening NATO. Because of this, Trudeau is on the target of NATO member countries. For this, displeasure has also been expressed by writing a letter against Canada. Actually, Canada is accused of not fulfilling the target of military expenditure. It has not invested enough in new equipment either. Now the NATO meeting is being held in America, obviously this issue can be raised a lot there. In the meeting, NATO members can also put pressure on Canada to give more money.

23 countries are achieving the target, Canada is lagging behind

According to the report of news portal Politico, former arms control officer of the US State Department Max Bergman says that everyone is spending more, but Canada is not even trying. The report said that 23 US senators expressed disappointment in a letter to Prime Minister Justin Trudeau. In this, Canada has been appealed to fulfill its responsibility. NATO countries had committed to spend 2% of their country’s GDP on defense in 2014. Out of 32 countries,

23 are about to achieve this target, but Canada is still behind. NATO diplomats and officials have expressed their concerns over this stance of Canada. Some believe that Canada is weakening NATO. The US Congress official said that they will continue to put pressure on Canada, as there is no penalty for not achieving the target.

NATO

The limit of 2 percent is the minimum

Now many big issues including the Ukraine war will be raised in the NATO conference being held in America. The issue of NATO’s defence budget will also be raised in this. It will be told that 2% is not the limit for defence budget but it is the minimum limit. Countries like America, Poland, Norway and Estonia have already crossed the 2% limit.

द स्टेट न्यूज़ हिंदी

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *